उद्योग

सेंसेक्स, निफ्टी में करीब डेढ़ फीसदी की बढ़त

बीते सप्ताह घरेलू शेयर बाजार वैश्विक संकेतों को पीछे छोड़ते हुए तेजी के साथ बंद हुए, जिसमें घरेलू संस्थागत निवेशकों द्वारा लगातार की गई खरीदारी का प्रमुख योगदान रहा। सप्ताह के पांच कारोबारी सत्रों में चार में तेजी रही। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 554.12 अंकों या 1.61 फीसदी की तेजी के साथ 34,969.70 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 128.25 अंको या 1.21 फीसदी की तेजी के साथ 10,692.30 पर बंद हुआ। बीएसई का मिडकैप सूचकांक 118.24 अंकों या 0.7 फीसदी की तेजी के साथ 16,917.18 अंकों पर तथा स्मॉलकैप सूचकांक 61.93 अंकों या 0.34 फीसदी की तेजी के साथ 18,239.96 पर बंद हुआ। सोमवार को सेंसेक्स 35.19 अंकों या 0.10 फीसदी की तेजी के साथ 34,450.77 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 20.65 अंकों या 0.20 फीसदी की तेजी के साथ 10,584.70 पर बंद हुआ। मंगलवार को बाजार में उतारचढ़ाव का दौर जारी रहा और सेंसेक्स 165.87 अंकों या 0.48 फीसदी की तेजी के साथ 34,616.64 पर बंद हुआ तथा निफ्टी 29.65 अंकों या 0.28 फीसदी की तेजी केसाथ 10,614.35 पर बंद हुआ। बुधवार को निवेशकों द्वारा मुनाफावसूली करने तथा कमजोर वैश्विक संकेतों के कारण बाजार में गिरावट रही, जिससे सेंसेक्स 115.37 अंकों या 0.33 फीसदी की गिरावट के साथ 34,501.27 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 43.80 अंकों या 0.41 फीसदी की गिरावट के साथ 10,570.55 पर बंद हुआ। गुरुवार को शेयर बाजार में अच्छी तेजी रही और सेंसेक्स 212.33 अंकों या 0.62 फीसदी की तेजी के साथ 34.713.60 पर बंद हुआ, जबकि निफ्टी 47.25 अंकों या 0.45 फीसदी की तेजी के साथ 10,617.80 पर बंद हुआ। शुक्रवार को मजबूत वैश्विक संकेतों के बीच बैंकिंग और पूंजीगत वस्तुओं के शेयरों में खरीदारी बढ़ने से सेंसेक्स 256.10 अंकों या 0.74 फीसदी की तेजी के साथ 34,969.70 पर और निफ्टी 74.50 अंकों या 0.70 फीसदी की तेजी के साथ 10,692.30 पर बंद हुआ। बीते सप्ताह सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे – महिंद्रा एंड महिंद्रा (7.61 फीसदी), रिलायंस इंडस्ट्रीज (7.19 फीसदी), अडानी पोर्ट्स (5.3 फीसदी), इंडसइंड बैंक (3.96 फीसदी), सन फार्मास्यूटिकल्स (3.73 फीसदी), भारती एयरटेल (2.05 फीसदी), एक्सिस बैंक (6.53 फीसदी) और यस बैंक (12.97 फीसदी)। सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे – टाटा स्टील (2.75 फीसदी), एनटीपीसी (1.95 फीसदी), कोल इंडिया (2.23 फीसदी), मारुति सुजुकी (2.87 फीसदी), एचडीएफसी बैंक (1.94 फीसदी) और विप्रो (7.71 फीसदी)।